मोदी सरकार के सामने आई नई मुसीबत, Air India बेचने के खिलाफ खड़ा हुआ ये BJP नेता

Air India - Photo: AajTak

केंद्र सरकार द्वारा एयर इंडिया को बेचने की तैयारी शुरू कर दी गई है। सोमवार को प्रारंभिक जानवारी वााल मेमोरेंडम मोदी सरकार ने जारी भी कर दिया है। लेकिन अब घर से ही बीजेपी को सरकार के इस फैसले का विरोध झेलना पड़ रहा है। जी हां, बीजेपी सासंद सुब्रमण्यम स्वामी मोदी सरकार के एयर इंडिया बेचने के प्रस्ताव के खिलाफ खड़े हो चुके हैं।

subramanyam swami – Photo: PTI

ट्वीटर पर एक ट्वीट के ज़रिए सुब्रमण्यम स्वामी ने मोदी सरकार के इस फैसले का विरोध किया। स्वामी ने कहा कि ये फैसला पूरी तरह से देश विरोधी है। इसके लिए मुझे कोर्ट जाने पर विवश होना पड़ेगा। हम अपने परिवार की बेशकीमती चीज़ें नहीं बेच सकते हैं। बता दें कि सुब्रमण्यम स्वामी बीजेपी के वरिष्ठ नेता हैं। राज्यसभा में सांसद भी हैं। स्वामी पहले भी सरकार की एयर इंडिया को बेच देने की योजना के खिलाफ अपनी नाराज़गी ज़ाहिर कर चुके हैं।

जानकारों का मानना है कि केंद्र सरकार द्वारा एयर इंडिया को बेचने के फैसले पर राजनीतिक और कानूनी अड़चनें पैदा हो सकती हैं।

पहले भी दे चुके हैं वॉर्निंग

एयर इंडिया को लेकर बोली प्रक्रिया को लेकर उठाए गए कदम के विरोध में सुब्रमण्यम स्वामी पहले भी वॉर्निंग दे चुके हैं। स्वामी ने सरकार की आलोचना करते हुए कहा था कि इस मुद्दे पर फिलहाल संसदीय पैनल द्वारा चर्चा की जा रही है।

Subramanyam Swami – Photo: Firstpost Hindi

कुछ दिनों पहले ही स्वामी ने कहा था कि एयर इंडिया फिलहाल परमार्शदात्ती समिति के सामने है और वो खुद इस समिति के एक सदस्य हैं। स्वामी ने कहा था कि उन्हें एक नोट देने के लिए कहा गया है जिस पर अगली बैठक में चर्चा की जानी है। इसके बिना वे आगे नहीं बढ़ सकते हैं। स्वामी ने चेतावनी देते हुए कहा था कि अगर ऐसा हुआ तो वो इसके खिलाफ अदालत का रुख करेंगे।

केंद्र की मोदी सरकार ने जो बिड डॉक्यूमेंट जारी किया है उसके मुताबिक, एयर इंडिया एक्सप्रेस की 100 प्रतिशत हिस्सेदारी बेच दी जाएगी। इसके अलावा भी एयर इंडिया और SATS जॉइन्ट वेंचर वाली कंपनी AISATS में एयर इंडिया की 50 प्रतिशत की हिस्सेदारी बेच दी जाएगी। बोली जीतने वाली कंपनी को एयर इंडिया का मैनेजमेंट कंट्रोल मिल जाएगा। सरकार ने 17 मार्च तक की डेडलाइन रखी है। तब तक जो भी एयर इंडिया को खरीदने में दिलचस्पी लेना चाहता है, आवेदन कर सकता है।

ये कंपनियां हैं रेस में

न्यूज एजेंसी आईएनएस ने सूत्रों के हवाले से मिली खबर में बताया है कि एयर इंडिया के संभावित बिडर्स में टाटा ग्रुप, स्पाइसजेट, हिंदुजा, इंडिगो सहित कई निजी इक्विटी कंपनियां शामिल हैं। कई विदेशी कंपनियों द्वारा भी भारतीय कंपनियों में पार्टनरशिप करके एयर इंडिया की नीलामी में शामिल हो सकती हैं।

बता दें कि एयर इंडिया काफी समय से घाटे में चल रही है और इस पर हज़ारों करोड़ रुपए का कर्ज़ हो चुका है। विनिवेश योजना को जानने वाले एक अफसर ने बताया कि एयर इंडिया पर अब 18,000 करोड़ रुपए का कर्ज़ है। जब एयर इंडिया को बेचने के लिए बोली इनवाइट की जाएगी तो एयर इंडिया के खातों में इतना ही कर्ज़ दिखाया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *