Universe में घटने वाली इन 09 रहस्यमयी घटनाओं को जानकर आप दंग रह जाएंगे

Source: Listverse

Universe यानि ब्रह्मांड कितना बड़ा है? हम सभी के ज़ेहन में ये सवाल कभी ना कभी ज़रूर आता है। इस सवाल का जवाब मिलना तो नामुमकिन है। लेकिन इतना जान लीजिए कि हमारा ब्रह्मांड कई तरह की खौफनाक और अनोखी-अंजानी घटनाओं का साक्षी भी है। अगर आप ब्रह्मांड के बारे में जानना शुरू कर देंगे तो आपकी दिलचस्पी हर दिन और ज़्यादा बढ़ती ही चली जाएगी।

तो चलिए साथियों आज आपको हमारे Universe की अनंद गहराइयों में गोता लगवाते हैं और जानकारी देते हैं Universe में घटने वाली कुछ बेहद घटनाओं के बारे में।

1. The Higgs Boson Doomsday (Universe)

कई दफा हम सुनते रहते हैं कि फलां साल में पृथ्वी पर प्रलय आएगी और सब कुछ खत्म हो जाएगा। ऐसे कई साल गुज़र चुके हैं जिनके बारे में इस तरह की भविष्यवाणी की गई थी। लेकिन अब तक इस तरह की जिनती भी भविष्यवाणियां की गई हैं उनमें सबसे खतरनाक है हिग्स बोसोन डूम्सडे यानि प्रलय वाली भविष्यवाणी। स्टीफन हॉकिंग जैसे महान वैज्ञानिक ने भी माना था कि इस तरह की कोई घटना हो सकती है। वैज्ञानिकों का मानना है कि एक बुलबुले में भरी हिग्ज एनर्जी में होने वाले उतार-चढ़ाव से इस प्रलय की शुरूआत हो सकती है।

The-Higgs-Boson-Doomsday-Universe
Source: Listverse

ये बुलबुला कितना बड़ा है इसका कोई अंदाज़ा नहीं लगाया जा सका है। यहां ये जान लेना ज़रूरी है कि ब्रह्मांड के स्थिर बने रहने के लिए ज़रूरी है कि हिग्ज एनर्जी का लेवल हमेशा एक जैसा रहना चाहिए। हिग्ज एनर्जी के लेवल में अगर कोई उतार-चढ़ाव हुआ तो उस बुलबुले का वैक्यूम की तरह फैलना शुरू हो सकता है। ऐसा हुआ तो एटम मौलिक रूप से री-प्रोग्राम होना शुरू हो जाएंगे। वहीं ऐसा भी हो सकता है कि एटम्स विघटित होना शुरू हो जाएं। कई वैज्ञानिकों ने ये भी दावा किया है कि इस घटना की शुरूआत तो हो भी चुकी है और हमारे ब्रह्मांड के अंधेरे भागों में घटना पहले ही घटित हो रही है।

The-Higgs-Boson-Doomsday-Universe
Source-YouTube

एक दिन ब्रह्मांड के अंधेरे भागों से निकलकर ये बुलबुला हमारी पृथ्वी से भी ज़रूर टकराएगा और फिर पृथ्वी पर ऐसी प्रलय आएगी कि सब कुछ तहस-नहस हो जाएगा। हालांकि कई वैज्ञानिक कहते हैं कि अभी ऐसा कुछ नहीं हो रहा है लेकिन भविष्य में इसकी शुरूआत ज़रूर होगी। लेकिन तब तक पृथ्वी से इंसानों का वजूद खत्म हो चुका होगा।

2. Galactic Cannibalism (Universe)

ब्रह्मांड में छोटी-बड़ी अनगिनत आकाश गंगाएं हैं। आमतौर पर समयचक्र के साथ बड़ी आकाश गंगाएं छोटी आकाश गंगाओं को निगल लेती हैं। हमारी आकाश गंगा जिसे हम मिल्की वे भी कहते हैं, ऐसा इसके साथ भी हो सकता है। कई वैज्ञानिकों को तो ये भी दावा है कि किसी दूसरी विशाल आकाश गंगा द्वारा हमारी आकाश गंगा को निगलने की शुरूआत हो चुकी है। ये वाकई में बेहद डरावना अहसास है। लेकिन फिलहाल राहत की बात ये है कि ये चक्र पूरा होने में अभी कई हज़ार सालों का समय है।

Galactic-Cannibalism-Universe
Source: Listverse

यहां आपको ये जानकारी देनी भी ज़रूरी है कि एंड्रोमेडा नाम की एक बेहद विशाल आकाशगंगा हमारे मिल्की वे की एक सिस्टर गैलेक्सी को लगभग 2 बिलियन साल पहले खा चुकी है। लगभग 4.5 बिलियन सालों बाद हो सकता है कि एंड्रोमेडा हमारे मिल्की वे को भी निगल लगे। अगर तब तक मानव जाति ने इतना विकास कर लिया कि वो आकाश गंगाओं के बीच में सफर कर पाए तब तो हमारा बचना मुमकिन है। वरना हम इंसानों का नामो-निशान मिटना तय है।

3.The Outcast Supermassive Black Hole (Universe)

हमारे ब्रह्मांड में इतनी विशाल चीज़ें मौजूद हैं कि हमारी पृथ्वी तो उनके सामने धूल के किसी कण के समान ही प्रतीत होगी। ऐसी ही एक विशालकाय चीज़ है ब्लैकहोल, जो कि एक आकाश गंगा से निकल रहा है। वैज्ञानिकों ने पिछले दिनों अब तक का सबसे विशाल ब्लैकहोल खोजा है। अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने अपनी गणना के अनुसार दावा किया है कि इस ब्लैकहोल को बनने में 100 मिलियन सुपरनोवा के बराबर उर्जा खर्च हुई होगी। आकाशगंगा के केंद्र में पहले से मौजूद रहे दो ब्लैकहोल के आपस में मिलने से इस विशालकाय ब्लैकहोल का निर्माण हुआ है।

The-Outcast-Supermassive-Black-Hole-Universe
Source: Listverse

4. Rogue Black Holes (Universe)

अगर आप आज से पहले ये बात नहीं जानते थे तो अब जान लीजिए। ब्लैक होल से किसी का भी और कुछ भी बचना नाममुकिन है। तीन लाख किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से सफर करने वाली रोशनी भी ब्लैकहोल से नहीं बच सकती। और ये भी जान लीजिए कि जिस तरह अंतरिक्ष में मौजूद हर चीज़ घूमती रहती है ठीक वैसे ही ये ब्लैकहोल भी घूमते हैं। ये ब्लैकहोल अपने रास्ते में आने वाली हर चीज़ को निगल लेता है। हमारे मिल्की वे में ऐसा ही एक ब्लैकहोल घूम रहा है जिसका आकार बृहस्पति गृह जितना है। पहले तो वैज्ञानिकों को लगा था कि ये ब्लैकहोल एक ही जगह पर स्थिर है। लेकिन इसका लगातार अध्ययन करने के बाद वैज्ञानिकों ने दावा किया है कि ये ब्लैकहोल भी गतिमान है।

Rogue-Black-Holes-Universe
Source: Listverse

5. Zombie Stars

ब्रह्मांड में मौजूद हर चीज़ पर ये बात लागू होती है कि जो ज़िंदा है उसे आखिरकार एक दिन मरना ही है। आपको जानकर आश्चर्य होगा कि अंतरिक्ष में मौजूद तारे भी मरते हैं और किसी तारे का मरकर नष्ट होना अंतरिक्ष में घटने वाली सबसे अनोखी घटनाओं में से एक है। इस विशाल अंतरिक्ष में ऐसा होता रहता है। एक दिन हमारा सूरज भी खत्म होगा। लेकिन वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में ही कुछ ऐसे तारे भी देखे हैं जिनको विज्ञान के मुताबिक अपने सुपरनोवा चरण मे अब तक मर जाना चाहिए था। लेकिन जाने किस तरह वो तारे बच गए हैं। ये घटनाएं ऐसी हैं जो कि अंतरिक्ष के रहस्यों को और गहरा देती हैं। इसलिए बेहतर है कि हमारे गृह के साथ ऐसा कुछ ना ही हो।

Zombie-Stars
Source: Listverse

6. The Galaxies Without Dark Matter

ब्रह्मांड के बारे में जानने वाले लोग इस बात से ज़रूर वाकिफ होंगे कि हमारे वैज्ञानिकों ने अब तक जितना भी ब्रह्मांड देखा है वो पूरे ब्रह्मांड का एक अंश मात्र है। ब्रह्मांड का अधितकर हिस्सा डार्क मैटर से बना है। लेकिन आपको जानकर शायद हैरानी हो कि ब्रह्मांड में कई ऐसी आकाशगंगाएं भी वैज्ञानिकों ने ढूंढ निकाली हैं जो कि डार्कमैटर से नहीं बनी हैं।

The-Galaxies-Without-Dark-Matter
Source: Listverse

यानि जितना रहस्यमयी खुद डार्क मैटर है उससे भी कहीं ज़्यादा अनोखी और रहस्यमयी वे आकाशगंगाएं हैं जो इससे नहीं बनी हैं। वैज्ञानिकों के सिर का दर्द इसलिए भी अब और ज़्यादा बढ़ गया है क्योंकि पहले माना जाता था कि ब्रह्मांड में मौजूद सभी तरह के पिंडों को एक साथ रखने के लिए इसकी बेहद ज़रूरत है। लेकिन इन नई प्रकार की आकाशगंगाओं ने इस थ्योरी को गलत साबित कर दिया है।

7. The Triple Galaxy Collision

हम इंसानों के जीवन में भले ही बोरियत आती-जाती रहती हों, लेकिन हमारे ब्रह्मांड में हमेशा कुछ ना कुछ अनोखा और दिलचस्प चलता ही रहता है। जैसे कि तीन आकाशगंगाओं का आपस में टकराना। एक आकाश गंगा में अरबों तारें होते हैं और जब तीन आकाशगंगाएं आपास में टकराती हैं तो आप अंदाज़ा लगा सकते हैं कि इसकी प्रतिक्रिया कैसी होती होगी। ये एक बेहद विस्फोटक घटना होती है। जब तीन आकाशगंगाएं आपस में टकराती हैं तो कई तारों का आपस में विलय हो जाता है। और बड़ी ही तेज़ी से बहुत सारे नए तारों का निर्माण भी होता है।

The-Triple-Galaxy-Collision
Source: Listverse

8. The Mystery Of The Biggest Black Hole Ever Found

ब्रह्मांड इतना विशाल है कि शायद ही हम इंसान कभी पूरी तरह से जान पाएं,

कि इस विशाल ब्रह्मांड में कितनी अविस्यमकारी घटनाएं घटित होती हैं।

जब भी हम इंसान ये सोचते हैं कि हमने कुछ नया पता लगा लिया है तभी कुछ ऐसी चीज़ नज़र आ जाती है जो हमें अहसास करा देती है कि हमें तो कुछ भी नहीं पता है। इसका सबसे बड़ा उदाहरण है SDSS J0100 + 2802 जो कि ब्रह्मांड में खोजा गया अब तक का सबसे विशाल और सबसे चमकीला ब्लैक होल है। ये ब्लैक होल मौजूद है Quasar के केंद्र में।

The-Mystery-Of-The-Biggest-Black-Hole-Ever-Found
Source: Listverse

अपनी रीसेंट रिसर्च में साइंटिस्ट्स ने ये पता किया है,

कि 420 ट्रिलियन सूरज के बराबर रोशनी अकेला ये ब्लैक होल दे सकता है।

हालांकि वैज्ञानिक अब इस बात पर माथापच्ची कर रहे हैं कि आखिर इस ब्लैक होल का निर्माण हुआ कैसे।

क्योंकि हमारे ब्रह्मांड के शुरूआती चरण में तो ऐसा कुछ भी नहीं होना चाहिए था।

यही वजह है कि वैज्ञानिक इसे सभी ब्लैक होल्स में सबसे अधिक रहस्यमयी ब्लैक होल मानते हैं।

9. The Coldest Place In The Universe 

गर्मियों के दिनों में सूरज देवता जब अपनी आग बरसाते हैं,

तो शायद आपके ज़ेहन में ये ख्याल कभी आया होगा कि ब्रह्मांड कितना गर्म है।

लेकिन हकीकत इसके ठीक उलट है। ब्रह्मांड गर्म नहीं, बेहद ठंडी जगह है।

ये कितना ठंडा है इसका भी सही अंदाज़ा वैज्ञानिक आज तक लगा नहीं पाए हैं।

क्योंकि तारों की गर्मी तो उनके आस-पास के एक छोटे से इलाके तक ही सीमित होती है।।

ये बात अलग है कि ये इलाका तारों के मुताबिक छोटा है, हमारे मुताबिक नहीं।

और हमारा सूरज भी ब्रह्मांड में तैरते लाखों-करोड़ों तारों में से एक ही तो है।

The-Coldest-Place-In-The-Universe
Source: Listverse

अभी तक वैज्ञानिक अंतरिक्ष के जिस सबसे ठंडे इलाके  के बारे में जान पाए हैं,

उसका नाम है बूमरैंग नैब्यूला जो कि अंतरिक्ष में मौजूद एक बेहद विशाल गैस और धूल का गोला है।

और इसका तापमान माइनस -457.87 फैरेनहाइट है।

अब आप अंदाज़ा लगा सकते हैं कि जब ज़ीरो डिग्री तापमान में भी  हम इंसानों की घिग्गी बंद जाती है

तो अगर कोई गलती से इतने तापमान में पहुंच गया तो उसका क्या होगा।

हालांकि यहां पहुंचने वाला कोई नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *