जब रफी साहब के गाए इस गाने से बुरी तरह नाराज़ हो गए थे शम्मी कपूर, इस तरह हुए थे शांत

Mohammad Rafi Shammi Kapoor - Photo: Social Media

आप सभी का बहुत-बहुत स्वागत है हमारी इस बेहद खास पेशकश में। आज हम आपको शम्मी कपूर और रफी साहब से जुड़ा एक बेहद मज़ेदार किस्सा बता रहे हैं। किस्सा जुड़ा है शम्मी कपूर की फिल्म An Evening in Paris के एक गाने से। इस गीत को रफी साहब ने ही गाया था। किस्सा कुछ इस प्रकार है कि जिस वक्त ये गीत रिकॉर्ड होना था उससे कुछ पहले शम्मी कपूर साहब को एक शूटिंग के सिलसिले में बाहर जाना था।

शम्मी कपूर की एक बेहद खास बात ये थी कि जब भी उनका कोई गाना रिकॉर्ड हुआ करता था तो वो खुद भी रिकॉर्डिंग के समय स्टूडियो में मौजूद रहा करते थे।

बिना शम्मी रिकॉर्ड हो गया गाना

शूटिंग के कारण बाहर जा रहे शम्मी कपूर ने फिल्म के डायरेक्टर शक्ति सावंत से कहा कि जब वो शूटिंग से वापस लौट आएं तभी उनका गीत रिकॉर्ड कराया जाए। लेकिन तब तक शक्ति सावंत स्टूडियो बुक करा चुके थे। इसलिए शक्ति सावंत ने म्यूजिशियन जोड़ी शंकर जयकिशन को गीत रिकॉर्ड करने के लिए कह दिया। साथ ही उन्होंने ये भी कह दिया कि अगर शम्मी कपूर को रिकॉर्डिंग पसंद नहीं आए तो वो दोबारा से गीत को रिकॉर्ड करा लेंगे।

Mohammad Rafi Shammi Kapoor – Photo: Social Media

इंटेलीजेंट सिंगर थे रफी साहब

शक्ति सावंत जानते थे कि ये गीत रफी साहब रिकॉर्ड करेंगे। इसिलिए वो बेफिक्र थे। रफी साहब बेहद इंटेलिजेंट सिंगर थे। उनकी आदत थी कि वो म्यूज़िक कंपोजर से पूछ लिया करते थे कि जो गाना वो रिकॉर्ड करने वाले हैं वो किस एक्टर पर फिल्माया जाना है। ऐसा ही उन्होंने उस गीत की रिकॉर्डिंग पर भी किया। उन्होंने शंकर-जयकिशन से पूछा कि ये गाना किस एक्टर पर फिल्माया जाएगा।

Mohammad Rafi Shammi Kapoor – Photo: Social Media

इस तरह रिकॉर्ड किया शम्मी का वो गाना

उन्हें बताया गया कि ये गाना शम्मी कपूर शूट करेंगे वो भी हैलिकॉप्टर पर लटक कर। जैसे ही रफी साहब को मालूम चला कि ये गीत शम्मी कपूर साहब पर फिल्माया जाने वाला है तो वो बोले, मैं समझ गया हूं कि ये गीत मुझे कैसे गाना है। शम्मी साहब अपने हाथ-पैर इधर-उधर मारते हैं। वो कभी भी एक जगह खड़े नहीं होते हैं। इससे साफ है कि रफी साहब इस बात का ध्यान रखते थे कि किस एक्टर के लिए कैसे गाना है।

Mohammad Rafi Shammi Kapoor – Photo: Social Media

नाराज़ हो गए शम्मी कपूर

रफी साहब ने उस गीत की रिकॉर्डिंग पूरी की और वो गीत बहुत बढ़िया रिकॉर्ड हुआ। कुछ दिनों बाद शम्मी कपूर साहब आउटडोर शूटिंग खत्म करके वापस लौट आए। शम्मी कपूर साहब गाने की रिकॉर्डिंग पूछने के लिए शक्ति सावंत के पास गए तो उन्होंने बताया कि गीत तो रिकॉर्ड हो चुका है। इतना सुनते ही शम्मी कपूर बेहद नाराज़ हो गए। शक्ति सावंत साहब ने उन्हें समझाया कि वो कम से कम एक बार गीत सुन लें। अगर उन्हें पसंद नहीं आया तो गीत को फिर से रिकॉर्ड करा लिया जाएगा।

Mohammad Rafi Shammi Kapoor – Photo: Social Media

बेहद पसंद आया शम्मी को वो गाना

शम्मी कपूर साहब ने शक्ति सावंत की बात मान ली और उस गीत की रिकॉर्डिंग सुनी। रिकॉर्डिंग सुनते ही शम्मी कपूर का गुस्सा एकदम गायब हो गया। शम्मी कपूर हैरान थे और शंकर-जयकिशन जी से बोले कि आखिर कैसे रफी साहब ने ये गीत रिकॉर्ड कर दिया। बिना मुझसे बात किए आखिर कैसे रफी साहब ने इस गाने को वैसे ही गाया जैसा कि मैं चाहता था। शम्मी कपूर साहब को वो गीत इतना पसंद आया था कि उन्होंने उसका एक भी नोट नहीं बदलवाया था।

Mohammad Rafi Shammi Kapoor – Photo: Social Media

रफी साहब जैसा कोई नहीं

फिल्म रिलीज़ हुई और रफी साहब के गाए इस गाने को लोगों ने बेहद पसंद किया। उस साल के टॉप बॉलीवुड सॉन्ग्स चार्ट में ये गाना कई दिनों तक शुमार रहा। इस किस्से से हमें ये बात अच्छी तरह से समझ में आती है कि रफी साहब केवल अच्छे गायक ही नहीं, बल्कि इंटेलिजेंट गायक भी थे। रफी साहब एक्टर के कैरेक्टर को समझकर उसी में डूबकर गाना गाया करते थे। शायद इसीलिए रफी साहब ने केवल हीरों ही नहीं, बल्कि कॉमेडियन और विलेन तक के लिए गाने गाए थे।

Mohammad Rafi Shammi Kapoor, Rafi with Ashok Kumar – Photo: Social Media

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *