Manorama: हिंदी सिनेमा की वो शानदार वैंप जिसका आखिरी वक्त बड़ा बुरा गुज़रा

Bollywood-Actress-Manorama

Photo: Social Media

Manorama. हो सकता है कि इस नाम से आपमें से अधिकतर लोग वाकिफ ना हों। लेकिन इस चेहरे को आप ज़रूर अच्छी तरह से पहचाने होंगे। फिल्मों में इन्होंने कॉमेडी की और वैम्पिश किरदार भी निभाए। अपनी कमाल की स्क्रीन प्रजेंस से मनोरमा ने ढेर सारी लोकप्रियता बटोरी। छह दशकों तक हिंदी सिनेमा में काम करने वाली मनोरमा ने करियर की शुरूआत तो बतौर हिरोइन की थी। लेकिन जब इनकी उम्र बढ़ी तो ये बन गई हिंदी फिल्म इंडस्ट्री की एक बेहद शानदार कैरेक्टर आर्टिस्ट।

Bollywood-Actress-Manorama
Photo: Social Media

Modern Kabootar पर आज पेश है बेहद दमदार अभिनेत्री रही Manorama की ज़िंदगी की कहानी। चलिए जानते हैं कैसे Manorama फिल्मों में आई और कैसे उन्होंने सिने इंडस्ट्री में इतना बड़ा मुकाम हासिल किया।

Manorama की शुरूआती ज़िंदगी

मनोरमा का जन्म हुआ था 16 अगस्त 1926 को लाहौर में। इनके पिता का नाम था आइज़क डेनियल लाहौर के एक इंजीनियरिंग कॉलेज में प्रोफेसर थे और वो एक भारतीय ईसाई थे। मनोरमा की मां आयरिश मूल की थी। इनका असली नाम था Erin Isaac Daniels.

Bollywood-Actress-Manorama
Photo: Social Media

एरिन अपने मां-बाप की इकलौती संतान थी। एरिन की पढ़ाई-लिखाई लाहौर से ही हुई थी। पढ़ाई के साथ-साथ एरिन ने क्लासिकल डांस की ट्रेनिंग भी ली थी। इतना ही नहीं, एरिन के माता-पिता ने इन्हें संगीत की शिक्षा भी दिलाई थी।

इस तरह फिल्मों में आई Manorama

इनकी उम्र जब मात्र 9 बरस थी तब ही किस्मत ने कुछ ऐसा संयोग बना दिया था कि आगे चलकर ये फिल्मों में काम करें। हुआ कुछ यूं था कि एक दिन ये अपने स्कूल के फंक्शन में डांस कर रही थी। इत्तेफाक से उस दौर के दिग्गज फिल्म प्रोड्यूसर रूप के. शौरी भी वहां मौजूद थे।

Bollywood-Actress-Manorama
Photo: Social Media

रूप के. शौरी को नन्ही मनोरमा का डांस बेहद पसंद आया। वहीं पर उन्होंने ये फैसला कर लिया था कि अपनी फिल्म में वो इस बच्ची को ज़रूर लेंगे। ये रूप के. शौरी ही थे जिन्होंने इनका नाम एरिन से बदलकर मनोरमा किया था।

Manorama की पहली फिल्म

रूप के. शौरी तो सोचते ही रह गए। लेकिन उन्हीं के अच्छे दोस्त और फिल्म प्रोड्यूसर दलसुख पंचोली ने एरिन को अपनी फिल्म खजांची में ले लिया। ये फिल्म साल 1941 में रिलीज़ हुई थी।

Bollywood-Actress-Manorama
Photo: Social Media

इसके बाद उस दौर के एक बेहद मशहूर एक्टर चंद्रमोहन ने इन्हें कई और फिल्मों में काम दिलाया और मनोरमा ने कुछ फिल्में साइन कर ली। लेकिन ये फिल्में रिलीज़ नहीं हो पाई, क्योंकि इन्हीं दिनों में लाहौर में भारत की आज़ादी और विभाजन की चर्चाओं के चलते काफी तनाव रहने लगा था।

फिर लाहौर से मुंबई आ गई Manorama

इसी बीच भारत को आज़ादी मिलने से पहले मनोरमा ने अभिनेता राजन हक्सर से प्रेम विवाह भी कर लिया था। लेकिन इनकी शादी के कुछ ही महीनों बाद देश का विभाजन हो गया और मनोरमा और उनके पति राजन हक्सर लाहौर छोड़कर मुंबई आ गए। मुंबई आने के बाद इनके पति बन गए प्रोड्यूसर और एक्टर।

Bollywood-Actress-Manorama
Photo: Social Media

इनके पति ने भी कई फिल्मों में कुछ विलेनियस किरादर निभाए थे। वहीं मनोरमा को थोड़े से संघर्ष के बाद लच्छी नाम की एक पंजाबी फिल्म में काम मिला था। साल 1949 में रिलीज़ हुई ये फिल्म बड़ी हिट साबित हुई और इसके बाद तो मनोरमा के पास काम की कभी कमी नहीं रही।

इस तरह चरित्र अभिनेत्री बनी Manorama

मनोरमा ने फिल्मों में ज़्यादातर कॉमिक और वैम्पिश किरदार निभाए। इसकी वजह थी इनके वज़न का अचानक बढ़ जाना। हालांकि साल 1948 में इन्होंने घर की इज़्जत नाम की एक फिल्म में दिलीप कुमार की बहन का किरदार निभाया था। उस समय तक इनका वज़न नहीं बढ़ा था। अपने फिल्मी करियर में मनोरमा ने एक से बढ़कर एक फिल्मों में काम किया था।

Bollywood-Actress-Manorama
Photo: Social Media

Manorama की प्रमुख फिल्में

इन्होंने परिनीता, चाचा ज़िंदाबाद, गोकुल का चोर, फैशनेबल वाइफ, रिपोर्टर राजू, हाफ टिकट, मुझे जीने दो, नीला आकाश, दस लाख, नींद हमारी ख्वाब तुम्हारे, मेरे हुज़ूर, दो कलियां, एक फूल दो माली, पवित्र पापी, बॉम्बे टू गोवा, जोहर महमूद इन हॉन्ग कॉन्ग, गैम्बलर, बनारसी बाबू, नया दिन नई रात, लफंगे, हीरा और पत्थर, लावारिस, कातिलों के कातिल, धरम कांटा और हादसा जैसी लगभग 160 से भी ज़्यादा हिंदी और पंजाबी फिल्मों में काम किया था।

वॉटर में निभाया यादगार किरदार

इनकी आखिरी फिल्म थी साल 2005 में रिलीज़ हुई दीपा मेहता की फिल्म वॉटर जिसमें इनके किरदार मधुमति को बेहद पसंद किया गया। और हॉलीवुड के क्रिटिक्स ने इनके किरदार की तारीफ की। मधुमति के लिए दीपा मेहता की पहली और आखिरी चॉइस मनोरमा ही थी। वॉटर फिल्म का कुछ हिस्सा वाराणसी में शूट हुआ था।

Bollywood-Actress-Manorama
Photo: Social Media

उसके बाद किन्हीं कारणों से फिल्म की शूटिंग रुक गई। फिर पांच सालों बाद दीपा मेहता ने जब वॉटर की शूटिंग फिर से शुरू की तो तब तक फिल्म की पूरी स्टारकास्ट बदल चुकी थी। लेकिन मधुमति के किरदार में दीपा मेहता ने उस वक्त भी मनोरमा को ही लिया था और वॉटर की दोबारा शूटिंग शुरू होने के बाद भी ये रोल सिर्फ मनोरमा को ही दिया था।

ये था मनोरमा का यादगार किरदार

मनोरमा के फिल्मी करियर का सबसे दमदार और यादगार रोल माना जाता है फिल्म सीता और गीता में इनका निभाया कौशल्या चाची का किरदार। इस किरदार से मनोरमा भारत के घर-घर में पहचानी जाने लगी थी। लोग इनसे नफरत तो ज़रूर करते थे। लेकिन इनके काम को पसंद भी बेहद करते थे। मनोरमा अक्सर अपने से जूनियर लड़कियों से कहा करती थी कि अक्सर ऐसा होता है कि बड़े स्टार्स के सामने फीमेल कैरेक्टर आर्टिस्ट्स को लोग नोटिस नहीं करते हैं।

Bollywood-Actress-Manorama
Photo: Social Media

इसलिए जब भी कोई सीन शूट करो तो खूब एक्सप्रेशन्स दो। खूब हरकतें करो। जमकर मटको। ताकि लोग हीरो या हिरोइन के साथ-साथ तुम्हें भी बड़े ध्यान से देखें और तुम्हारा चेहरा उन्हें याद रह जाए। मनोरमा खुद भी इसी तकनीक का सहारा लेती थी और कहती थी कि उनकी फेवरिट फिल्म भी सीता और गीता ही है। क्योंकि इस फिल्म में इन्होंने वो सारे हथकंडे अपनाए थे जो कि अब वो नई लड़कियों को बताती हैं।

मनोरमा की निज़ी ज़िंदगी

बात अगर मनोरमा जी की निज़ी ज़िंदगी के बारे में करें तो ये तो हमने आपको बता ही दिया था,

कि इन्होंने अभिनेता और प्रोड्यूसर राजन हक्सर से शादी की थी।

लेकिन अभी आपको ये नहीं मालूम होगा कि राजन हक्सर से इनकी शादी टूट गई थी।

जी हां, सालों तक साथ रहने के बाद मनोरमा और राजन हक्सर तलाक लेकर अलग हो गए थे।

हालांकि इन दोनों की दोस्ती फिर भी बरकरार रही।

राजन हक्सर से इनको एक बेटी हुई थी जिसका नाम है रीता हक्सर और वो भी अभिनेत्री रह चुकी हैं।

उन्होंने कुछ हिंदी फिल्मों में काम किया है। जैसे कि पंडित और पठान व प्रियतमा।

रीता हक्सर को थोड़ी बहुत सुर्खियां तब मिली थी जब वो नज़र आई थी,

साल 1973 में रिलीज़ हुई फिल्म सूरज और चंदा में,

जिसमें उनके हीरो थे महान अभिनेता संजीव कुमार।

इसके बाद रीता हक्सर ने कुछ और फिल्मों में काम किया था।

लेकिन जब फिल्मों में रीता हक्सर को सफलता नहीं मिली,

तो उन्होंने एक इंजीनियर से शादी कर ली,

और फिर ये अपने पति के साथ गल्फ में शिफ्ट हो गई।

Bollywood-Actress-Manorama
Photo: Social Media

जब दिल्ली रहने आई मनोरमा

मनोरमा की ज़िंदगी में एक दौर ऐसा भी आया था,

जब ये मुंबई को छोड़कर दिल्ली रहने आ गई थी।

दिल्ली आकर इन्होंने टीवी सीरियल्स में काम करना शुरू कर दिया था।

ये नज़र आई दूरदर्शन के शो दस्तक में जिसमें शाहरुख खान भी नज़र आए थे।

इसके अलावा इन्होंने एकता कपूर के बालाजी टेलीफिल्म्स के शो कश्ती और कुंडली में भी काम किया था।

वहीं कुटुंब नाम के लोकप्रिय टीवी शो में इन्होंने हितेन तेजवानी की दादी मां का किरदार निभाया था।

लगभग पांच साल दिल्ली में गुज़ारने के बाद मनोरमा वापस मुंबई लौट आई थी।

Bollywood-Actress-Manorama
Photo: Social Media

बहुत दुख में बीते आखिरी साल

मनोरमा जी की ज़िंदगी के आखिरी साल बड़ी मुश्किल में गुज़रे थे।

पति से इनका तलाक तो सालों पहले ही हो चुका था।

और बेटी भी कई साल पहले शादी करके अपने पति के साथ विदेश में रह रही थी।

ये अपने घर में अकेले रहती थी। फिल्म वॉटर के रिलीज़ होने के दो साल बाद,

यानि 2007 में अचानक इनकी तबियत बेहद खराब हो गई।

दरअसल, इन्हें अचानक एक स्ट्रोक आया था,

और उस स्ट्रोक का असर इनके चेहरे पर और इनकी ज़ुबान पर हुआ था।

मनोरमा बोलने से लाचार हो गई।

ये बोलना तो चाहती थी। लेकिन बोल नहीं पा रही थी।

Bollywood-Actress-Manorama
Photo: Social Media

और दुनिया से चली गई मनोरमा

लगभग 1 साल तक उनकी हालत ऐसी ही रही,

और फिर 15 फरवरी 2008 को इसी हालत में मनोरमा ने,

81 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया।

जिस वक्त इनकी मौत हुई थी उस वक्त इनके घर में कोई भी नहीं था।

एक नौकर था जिसे इनकी मौत का आभास अगले दिन हुआ था।

बॉलीवुड ने मनोरमा को किस कदर भुला दिया था इसका अंदाज़ा आप ऐसे लगा सकते हैं,

कि इनके आखिरी सफर में एक भी बॉलीवुड सेलिब्रिटी शरीक नहीं हुआ था।

और इस तरह कभी बॉलीवुड के आसमान में किसी चमकदार सितारे की तरह,

चमचमाने वाली मनोरमा गुमनामी के अंधेरों में डूब गई।

Bollywood-Actress-Manorama
Photo: Social Media

मनोरमा को नमन

अपनी मज़ेदार कॉमेडी से सिनेमा के शौकीनों का मनोरंजन करने वाली,

मनोरमा भले ही तनहाई की मौत मरी हों,

लेकिन अपने हुनर से उन्होंने हिंदी सिनेमा में अपना नाम अमर ज़रूर कर दिया था।

यकीनन इस बात से कोई इन्कार नहीं कर सकता कि मनोरमा जैसा,

ना तो कभी कोई पहले था और ना ही कभी कोई बाद में आएगा।

मॉडर्न कबूतर की तरफ से हिंदी सिनेमा की इस शानदार अभिनेत्री को शत शत नमन।

Bollywood-Actress-Manorama
Photo: Social Media

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *