Germany cost of Living: हमारे भारत से कितना महंगा है जर्मनी देश?

Germany-Cost-Of-Living

Photo Courtesy: Pixabay

Germany cost of Living. वैसे तो जर्मनी का ज़िक्र आते ही हमारे ज़ेहन में हिटलर का नाम सबसे पहले आता है। लेकिन जर्मनी अपने आप में एक बेहद खूबसूरत और बेहद अनूठा देश है। बीयर पीने के शौकीनों का देश जर्मनी यूरोपियन यूनियन का एक बेहद अहम देश है। जनसंख्या के लिहाज से देखें तो जर्मनी भारत के आंध्र प्रदेश राज्य के बराबर है।

दुनिया में जर्मनी इकलौता ऐसा देश है जहां लोग टेलिफोन या मोबाइल पर हैलो बोलने की जगह अपना नाम बताकर बातचीत शुरू करते हैं। आपको जानकर हैरानी होगी कि जर्मनी में अगर कोई कैदी जेल से भागने की कोशिश करता है तो इसे कोई अपराध नहीं माना जाता। ऐसा इसलिए क्योंकि यहां के लोगों का मानना है कि अपनी आज़ादी के लिए हर मनुष्य प्रयास तो करता ही है।

जर्मनी दुनिया के उन चंद देशों में से एक है जहां के ज़्यादातर हाइवे पर गाड़ियों की कोई स्पीड लिमिट नहीं है। हां, अगर हाइवे पर किसी की गाड़ी में पेट्रोल खत्म हो जाए तो ये एक तरह का अपराध माना जाता है और ये अपराध करने वाले शख्स पर मोटा जुर्माना लगाया जाता है। जर्मनी के बारे में बताने लगें तो इसके लिए तो एक अलग से वीडियो बनाना पड़ेगा। जबकी इस आर्टिकल में तो हम आपको बताने वाले हैं कि हमारे देश भारत की तुलना में जर्मनी कितना महंगा है और अगर कोई हमारे देश से जर्मनी में रहने जाता है तो उसे हर महीने कितनी कमाई करनी ज़रूरी है ताकि वो वहां आराम से रह सके और खा-पी सके।

तो चलिए दोस्तों बिना देर किए शुरू करते हैं ये वीडियो और जानते हैं Germany cost of Living के बारे में।

बाज़ार खर्च (Germany cost of Living)

चलिए सबसे पहले जानते हैं कि जर्मनी के बाज़ारों में उन चीज़ों की क्या कीमतें हैं जिनकी ज़रूरत हम भारतीयों को पड़ती ही पड़ती है फिर चाहे हम दुनिया के किसी भी हिस्से में क्यों ना रहें।

दूध की कीमत

भारत में 1 लीटर दूध की कीमत है लगभग 54 रुपए। जबकी जर्मनी में एक लीटर दूध की कीमत है लगभग 74 रुपए यानि लगभग 0.85 यूरो।

ब्रैड की कीमत

भारत में आधा किलो ब्रैड की कीमत है लगभग 33 रुपए। वहीं जर्मनी के बाज़ारों में आधा किलो ब्रैड की कीमत है लगभग 116 रुपए यानि लगभग 1.33 यूरो।

चावल की कीमत

भारत में एक किलो चावल मिल जाता है लगभग 64 रुपए में। दूसरी तरफ जर्मनी में एक किलो चावल के लिए आपको खर्च करने होंगे लगभग 170 रुपए यानि लगभग 2 यूरो।

अंडों की कीमत

भारत में एक दर्जन अंडे मिल जाते हैं लगभग 70 रुपए में। जबकी जर्मनी में एक दर्जन अंडों की कीमत है लगभग 196 रुपए यानि लगभग 2.26 यूरो।

पनीर की कीमत

भारत में एक किलो पनीर मिल जाता है लगभग साढ़े तीन सौ रुपए में। वहीं जर्मनी में एक किलो पनीर की कीमत है लगभग 697 रुपए यानि लगभग 8 यूरो।

चिकन की कीमत

भारत में एक किलो चिकन लगभग 250 रुपए में मिल जाता है। दूसरी तरफ जर्मनी में एक किलो चिकन के लिए चुकाने पड़ते हैं लगभग 620 रुपए यानि लगभग 7 यूरो।

रेड मीट की कीमत

भारत में 1 किलो रेड मीट की कीमत है लगभग 400 रुपए। जर्मनी में एक किलो रेड मीट के लिए चुकाने पड़ते हैं लगभग 878 रुपए यानि लगभग 10 यूरो।

सेब की कीमत

भारत में एक किलो सेब लगभग 120 रुपए में मिल जाते हैं। वहीं एक किलो सेब के लिए जर्मनी में खर्च करने पड़ते हैं लगभग 202 रुपए यानि लगभग 2.33 यूरो।

केले की कीमत

भारत में एक दर्जन केले आपको लगभग 50 रुपए में मिल जाएंगे। जबकी जर्मनी में एक किलो केले की कीमत है लगभग 144 रुपए यानि लगभग 1.66 यूरो। जर्मनी में केले किलो के हिसाब से ही मिलते हैं।

संतरे की कीमत

भारत में एक किलो संतरों के लिए खर्च करने पड़ते हैं लगभग 64 रुपए। दूसरी तरफ जर्मनी में एक किलो संतरे खरदीने पड़ते हैं 163 रुपए में यानि लगभग 1.88 यूरो में।

टमाटर की कीमत

भारत में एक किलो टमाटर के लिए खर्च करने पड़ते हैं लगभग 47 रुपए। जबकी जर्मनी में एक किलो टमाटर के लिए खर्च करने पड़ते हैं 216 रुपए यानि लगभग ढाई यूरो।

आलू की कीमत

भारत में एक किलो आलू के लिए लगभग 35 रुपए खर्च करने पड़ते हैं। वहीं जर्मनी में एक किलो आलू की कीमत है लगभग 110 रुपए यानि लगभग 1.27 यूरो।

प्याज की कीमत

भारत में एक किलो प्याज के लिए लगभग 40 रुपए खर्च करने पड़ते हैं। दूसरी तरफ जर्मनी में एक किलो प्याज की कीमत होती है लगभग 110 रुपए यानि लगभग 1.27 यूरो।

पानी की कीमत

भारत में डेढ़ लीटर वाली पानी की बोतल के लिए लगभग 30 रुपए चुकाने पड़ते हैं। जर्मनी में इस बोतल के लिए चुकाने पड़ते हैं लगभग 35 रुपए यानि लगभग 0.41 यूरो।

वाइन की कीमत

भारत में एक मिड रेंज वाइन की बोतल की कीमत है लगभग 800 रुपए। जबकी जर्मनी में वाइन की इसी बोतल की कीमत है लगभग 433 रुपए। यानि लगभग 5 यूरो। यानि भारत के मुकाबले जर्मनी में वाइन सस्ती है।

बियर कैन की कीमत

भारत में बियर के एक कैन की कीमत है लगभग 120 रुपए। जबकी जर्मनी में एक बियर कैन की कीमत है लगभग 76 रुपए यानि लगभग 0.88 यूरो।

बियर बोतल की कीमत

भारत में बियर की एक बोतल की कीमत है लगभग 210 रुपए। जर्मनी में बियर की एक बोतल की कीमत है लगभग 118 रुपए यानि लगभग 1.36 यूरो। ज़ाहिर है बियर के देश जर्मनी में बियर तो सस्ती होगी ही।

सिगरेट की कीमत

भारत में मार्लबोरो सिगरेट के एक पैकेट की कीमत है लगभग 340 रुपए। वहीं जर्मनी में इसी सिगरेट के एक पैकेट की कीमत है लगभग 600 रुपए यानि लगभग 5.90 यूरो।

रेस्टोरेंट में खाने का खर्च (Germany cost of Living)

हम चाहे दुनिया में कहीं भी जाकर रह लें। लेकिन रोज़-रोज़ खाना खुद बनाकर नहीं खा सकते। किसी ना किसी दिन तो हमारा मन हमें मजबूर कर ही देता है कि हम बाहर जाकर किसी होटल या फिर रेस्टोरेंट में खान खाएं। तो चलिए साथियों जान लेते हैं कि जर्मनी में रेस्टोरेंट्स में खाना भारत की तुलना में कितना महंगा है।

नॉर्मल रेस्टोरेंट में खाने का खर्च

जहां भारत में एक नॉर्मल रेस्टोरेंट में एक आदमी के खाने का खर्च लगभग 300 रुपए होता है तो वहीं जर्मनी में ये खर्च होता है लगभग 867 रुपए यानि लगभग 10 यूरो।

मिड रेंज रेस्टोरेंट में खाने का खर्च

भारत में एक ठीक-ठाक रेस्टोरेंट में दो लोगों के खाने का खर्च आता है लगभग 1500 रुपए। जबकी जर्मनी में एक मिड रेंज रेस्टोरेंट में दो लोगों के खाने का खर्च होता है लगभग चार हज़ार तीन सौ रुपए यानि लगभग 50 यूरो।

मैकडोनल्ड्स में खाने का खर्च

भारत में मैकडोनल्ड्स में एक आदमी लगभग 290 रुपए में पेट भर लेता है। दूसरी तरफ जर्मनी में मैकडोनल्ड्स में एक आदमी का पेट भरता है लगभग 695 रुपए में यानि लगभग 8 यूरो में।

कॉफी पीने पर होने वाला खर्च

भारत में किसी कॉफी शॉप में एक कप कॉफी पीने पर खर्च आता है लगभग 140 रुपए। वहीं जर्मनी में कॉफी शॉप में एक कप कॉफी पीने के लिए खर्च करने पड़ते हैं लगभग 242 रुपए यानि लगभग 2.78 यूरो।

कोल्ड ड्रिंक की कीमत

भारत में आधा लीटर कोक या पेप्सी की एक बोतल की कीमत है लगभग 40 रुपए। जबकी जर्मनी में कोल्ड ड्रिंक्स की इसी बोतल के लिए चुकाने पड़ते हैं लगभग 205 रुपए यानि लगभग 2.37 यूरो।

पानी की बोतल की कीमत

भारत में किसी रेस्टोरेंट से पानी की बोतल खरीदने पर कम से कम 20 रुपए चुकाने होते हैं। दूसरी तरफ जर्मनी में किसी रेस्टोरेंट में पानी की यही बोतल खरीदने के लिए चुकाने पड़ते हैं लगभग 178 रुपए यानि लगभग 2.05 यूरो।

ट्रांसपोर्टेशन का खर्च (Germany cost of Living)

चलिए अब तुलना करते हैं भारत और जर्मनी में आम लोगों के ट्रांसपोर्टेशन पर होने वाले खर्च की। क्योंकि किसी भी देश में ट्रांसपोर्टेशन सर्विस कैसी हैं और उन पर नागरिकों का कितना खर्च होता है ये जानना बड़ा ज़रूरी होता है।

वन वे टिकट का खर्च

भारत में लोकल ट्रांसपोर्ट का वन वे टिकट यानि एक तरफ का किराया है लगभग 30 रुपए। वहीं जर्मनी में वन वे टिकट यानि एक तरफ का किराया होता है लगभग 235 रुपए यानि लगभग 2.75 यूरो।

मंथली पास का खर्च

भारत में मंथली पास पर खर्च होता है लगभग 1000 रुपए। वहीं जर्मनी में मंथली पास के लिए खर्च करने पड़ते हैं लगभग छह हज़ार रुपए यानि लगभग 70 यूरो।

नॉर्मल टैरिफ टैक्सी

भारत में टैक्सी का नॉर्मल टैरिफ होता है लगभग 50 रुपए। दूसरी तरफ जर्मनी में टैक्सी का नॉर्मल टैरिफ होता है लगभग 302 रुपए यानि लगभग साढ़े तीन यूरो।

पर किलोमीटर टैक्सी का किराया

भारत में टैक्सी का पर किलोमीटर किराया होता है लगभग बीस रुपए। जबकी जर्मनी में पर किलोमीटर टैक्सी का किराया होता है लगभग 173 रुपए यानि लगभग 2 यूरो।

अपनी छोटी कार खरीदने पर होने वाला खर्च

भारत में एक ठीक-ठाक छोटी कार खरीदने पर लगभग 9 लाख रुपए खर्च करने पड़ते हैं।

जर्मनी में ऐसी ही कार खरीदने के लिए खर्च करने पड़ते हैं लगभग 19 लाख रुपए यानि लगभग 20 हज़ार यूरो।

अपनी सिडान खरीदने पर होने वाला खर्च

भारत में एक सिडान कार खरीदने के लिए लगभग 16 लाख रुपए खर्च करने पड़ते हैं।

जबकी जर्मनी में अपनी सिडान कार खरीदने लिए चुकाने पड़ते हैं लगभग,

19 लाख 18 हज़ार रुपए यानि लगभग 22 हज़ार 219 यूरो।

पेट्रोल की कीमतें

इन दिनों भारत में पेट्रोल की कीमतें लगभग 90 रुपए लीटर से लेकर सौ रुपए लीटर तक चल रही हैं।

जबकी जर्मनी में पेट्रोल की कीमत है लगभग 120 रुपए लीटर यानि लगभग 1.39 यूरो।

बेसिक मंथली यूटिलिटी  (Germany cost of Living)

चलिए अब जान लेते हैं कि भारत और जर्मनी में बेसिक यूटिलिटी,

यानि बिजली-पानी और दूसरी बेसिक ज़रूरतों पर कितना खर्च हर महीना होता है।

बिजली-पानी पर होने वाला खर्च

बात अगर भारत की राजधानी दिल्ली की करें तो मौजूदा दिल्ली सरकार ने दिल्ली के लोगों को बिजली और पानी पर काफी छूट दे रखी है इसलिए दिल्ली वालों को बिजली और पानी पर अब बहुत ज़्यादा खर्च नहीं करना पड़ता। जबकी गार्बेज का दिल्ली की अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग खर्च होता है। वहीं दिल्ली में लोगों को कूलिंग और हीटिंग जैसी सुविधाएं सरकार की तरफ से नहीं मिलती हैं।

वहीं जर्मनी की राजधानी बर्लिन में बिजली, पानी, कूलिंग, हीटिंग और गार्बेज जैसी सुविधाओं के लिए हर महीना लगभग 19 हज़ार चार सौ रुपए यानि लगभग 225 यूरो खर्च करने पड़ते हैं। ये कीमतें एक निश्चित आकार वाले फ्लैट्स के लिए हैं। और बड़े फ्लैट्स के लिए ये कीमतें भी और ज़्यादा हो जाती हैं।

प्रीपेड मोबाइल का खर्च

भारत में एक मिनट की मोबाइल कॉल का खर्च लगभग एक रुपए होता है।

दूसरी तरफ जर्मनी में एक मिनट की मोबाइल कॉल के लिए चुकाने पड़ते हैं,

लगभग 9 रुपए यानि लगभग 0.10 यूरो।

इंटरनेट का खर्च

भारत में हाई स्पीड इंटरनेट के लिए लगभग 780 रुपए महीना खर्च करने पड़ते हैं।

जर्मनी में हाई स्पीड इंटरनेट इस्तेमाल करने का खर्च होता है लगभग,

2800 रुपए महीना यानि लगभग 33 यूरो महीना।

क्लोदिंग एंड शूज़ (Germany cost of Living)

चलिए अब जान लेते हैं कि भारत की तुलना में जर्मनी में जूतों और कपड़ों की कीमतें क्या हैं।

क्योंकि ये कुछ ऐसी चीज़ें हैं जिनके बिना,

दुनिया के किसी भी हिस्से में हम इंसानों का रह पाना लगभग नामुमकिन ही है।

जींस की कीमत

लीवाइस या उसी सेगमेंट कि एक जोड़ा जींस की कीमत भारत में है लगभग 2500 रुपए।

जबकी इसी जींस के लिए जर्मनी में चुकाने पड़ते हैं लगभग,

छह हज़ार पांच सौ पचपन रुपए यानि लगभग 76 यूरो।

समर ड्रैस की कीमत

ज़ारा या उसी सेगमेंट के किसी शोरूम में एक समर ड्रैस की कीमत भारत में है लगभग 2600 रुपए।

जर्मनी में इसी ड्रैस की कीमत होती है लगभग 3 हज़ार रुपए यानि लगभग 35 यूरो।

रनिंग शूज़ की कीमत

भारत में नाइकी या उसी सेगमेंट के किसी ब्रांड के मिड रेंज रनिंग शूज़ की कीमत है लगभग 4000 रुपए।

जबकी जर्मनी में इन्हीं जूतों के लिए चुकाने पड़ते हैं लगभग 6900 रुपए यानि लगभग 80 यूरो।

लैदर शूज़ की कीमत

भारत में लैदर शूज़ के एक जोड़े की कीमत होती है लगभग 2800 रुपए।

जबकी जर्मनी में एक जोड़ा लैदर शूज़ के लिए 9100 रुपए यानि लगभग 105 यूरो खर्च करने पड़ते हैं।

कितना है किराया? (Germany cost of Living)

चलिए अब फटाफट जान लेते हैं कि जर्मनी में मकानों का किराया कितना होता है।

और भारत की राजधानी दिल्ली से ये किराया कितना अधिक होता है।

शहरी इलाके में 1बीएचके अपार्टमेंट का किराया

1बीएचके अपार्टमेंट का किराया दिल्ली के शहरी इलाके में है लगभग 18000 रुपए महीना।

जबकी जर्मनी की राजधानी म्यूनिख के शहरी इलाके में 1बीएचके अपार्टमेंट का किराया होता है,

लगभग 63 हज़ार रुपए यानि लगभग 729 यूरो।

शहर के बाहरी इलाके में 1बीएचके अपार्टमेंट का किराया

दिल्ली के बाहरी इलाकों में 1बीएचके अपार्टमेंट में किराया है लगभग 10 हज़ार रुपए महीना।

दूसरी तरफ जर्मनी की राजधानी म्यूनिख के बाहरी इलाके में 1बीएचके अपार्टमेंट का किराया होता है,

48 हज़ार रुपए यानि लगभग 554 यूरो।

शहरी इलाके में 3बीएचके अपार्टमेंट का किराया

3बीएचके अपार्टमेंट का किराया दिल्ली के शहरी इलाकों में है लगभग 42 हज़ार रुपए महीना।

वहीं जर्मनी की राजधानी म्यूनिख के शहरी इलाके में 3बीएचके अपार्टमेंट का किराया होता है,

लगभग 1 लाख 20 हज़ार रुपए यानि लगभग 1400 यूरो।

शहर के बाहरी इलाके में 3बीएचके अपार्टमेंट का किराया

दिल्ली के बाहरी इलाकों में 3बीएचके अपार्टमेंट का किराया है लगभग 23 हज़ार रुपए महीना।

दूसरी तरफ जर्मनी की राजधानी म्यूनिख के बाहरी इलाके में 3बीएचके अपार्टमेंट का किराया होता है,

90 हज़ार रुपए यानि लगभग 1 हज़ार यूरो।

अपार्टमेंट की कीमतें

हममें से कई भारतीय ऐसे हैं जो जर्मनी जैसे विकसित देश में रहना चाहते हैं,

और वो भी अपना खुद का मकान लेकर। अगर आप भी ऐसे ही लोगों में शुमार होते हैं,

तो चलिए अब आपको बता देते हैं कि अगर जर्मनी में किसी को अपना मकान खरीदना हो,

तो उसके लिए कितनी रकम की ज़रूरत पड़ती है।

शहरी इलाके में अपार्टमेंट की कीमत

दिल्ली के शहरी इलाके में अगर अपना घर खरीदना है तो लगभग,

1 लाख 60 हज़ार पर स्क्वायर मीटर के हिसाब से खर्च करना पड़ता है।

जबकी जर्मनी की राजधानी बर्लिन के शहरी इलाके में अपना घर खरीदने के लिए लगभग,

साढ़े चार लाख रुपए यानि लगभग,

5200 यूरो पर स्क्वायर मीटर के हिसाब से रकम खर्च करनी पड़ती है।

शहर के बाहरी इलाके में अपार्टमेंट की कीमत

दिल्ली के बाहरी इलाके में अपना घर खरीदने के लिए लगभग,

75 हज़ार रुपए पर स्क्वायर मीटर के हिसाब से रकम खर्च करनी पड़ती है।

दूसरी तरफ जर्मनी की राजधानी बर्लिन के बाहरी इलाके में अपना घर खरीदने के लिए लगभग,

3 लाख 4 हज़ार रुपए यानि लगभग 3520 यूरो पर स्क्वायर मीटर के हिसाब से खर्च आता है।

कितनी है सैलरी?

चलिए अब जान लेते हैं कि भारत और जर्मनी में सैलरी स्ट्रक्चर कैसा है।

जहां भारत में प्रोफेशनल्स की एवरेज बेसिक सैलरी है लगभग 34 हज़ार रुपए महीना,

तो वहीं जर्मनी में बेसिक सैलरी है लगभग दो लाख नौ हज़ार रुपए।

और अब आखिर में

तो साथियों। अगर आप वाकई में जर्मनी में रहने का ख्वाब देखते हैं,

तो आपको इस देश में हर महीने कम से कम दो लाख दस हज़ार रुपए तो कमाने ही होंगे।

तब जाकर आप इस शहर में भारत की राजधानी दिल्ली जैसा लाइफस्टाइल मैंटेन कर पाएंगे।

आपकी जानकारी के लिए ये बात बताना बेहद ज़रूरी है कि,

हमने ये सभी आंकड़े नम्बियो डॉट कॉम नाम की एक वेबसाइट से लिए हैं,

जो कि दुनिया के सभी देशों के बीच में कॉस्ट ऑफ लिविंग का तुलनात्मक डेटा बताती है।

इसलिए जो भी जानकारी हमने आपको अपनी रिपोर्ट में दी है उसमें थोड़ा बहुत फर्क हो सकता है।

आपको हमारी ये जानकारी कैसी लगी आप कमेंट करके हमें ज़रूर बताइएगा,

और ऐसी ही अपडेट्स लगातार पाते रहने के लिए मॉडर्न कबूतर को सब्सक्राइब भी ज़रूर कीजिएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *