Corona वायरस के बारे में जानिए सब कुछ, क्या हैं इस बीमारी के लक्षण और कैसे करें बचाव

COVID-19 Ifnormation - Photo: Social Media

दिन ब दिन Corona वायरस का खतरा दुनिया पर बढ़ता ही जा रहा है। चीन में तो ये वायरस हज़ारों लोगों की जान ले ही चुका है, ईरान और इटली में भी इस वायरस ने सैकड़ों लोगों की जान ले ली है। इसके अलावा दुनिया के कई और देशों में भी कोरोना का शिकार होकर लोगों को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है। भारत में भी एक आदमी इस वायरस की चपेट में आकर अपनी जान से हाथ धो बैठा है। और 70 से ज्यादा लोग इसकी चपेट में हैं।

वर्ल्ड हेल्द ऑर्गनाइजेशन जिसे हिंदी में विश्व स्वास्थ्य संगठन कहते हैं, उसने भी इस बीमारी को पैनडेमिक यानि महामारी घोषित कर दिया है। मतलब साफ है। कोरोना की समस्या अब क्रिटिकल ग्लोबल इश्यू यानि पूरी दुनिया के लिए मुसीबत बन चुकी है। लोगों के बीच दहशत का माहौल है।

ऐसे में ये जानना ज़रूरी हो जाता है कि एक आम आदमी इस वायरस से खुद को बचाने के लिए क्या एहतियात बरत सकता है। लेकिन उससे पहले जान लेते हैं कि ये कोरोना वायरस आखिर है क्या? कहां से और कैसे कोरोना नाम की इस मुसीबत की शुरूआत हुई? और हमारे देश में इस मुसीबत ने अब तक कितने पैर पसारे हैं।

कहां से शुरू हुआ कोरोना वायरस?

कोरोना वायरस की शुरूआत हुई चीन के हुबेई राज्य से। हुबेई की राजधानी और चीन के बड़े शहरों में से एक वुहान में जब अचानक लोगों को निमोनिया होने लगा और एकदम से बड़ी तादाद लोगों की मौत होने लगी तो चीनी वैज्ञानिकों का माथा ठनका। उन्होंने जब रिसर्च की तो पाया कि लोग तेज़ी से एक नए तरह के वायरस का शिकार हो रहे हैं। ये वायरस एक इंसान से दूसरे इंसान में सांस, खांसी और छींक से फैल रहा था।

कैसे पड़ा ये नाम?

ये पिछले साल यानि 2019 की बात थी। इसलिए वैज्ञानिकों ने इसे नाम दिया Covid-19. कोरोना वायरस के बारे में एक और जानकारी जो आपको मालूम होनी चाहिए वो ये कि ये कोरोना वायरस का नाम कोरोना इसलिए पड़ा क्योंकि ये वायरस दिखने में क्राउन जैसा यानि किसी राजा के ताज जैसा है। और लैटिन भाषा में ताज को कोरोना कहा जाता है।

क्या हैं इसके लक्षण?

अब बात करते हैं कि आखरि कोरोना वायरस में इंसान को तकलीफ क्या-क्या होती है। कोरोना वायरस की सबसे बड़ी दिक्कत यही है कि इसमें होने वाली दिक्कतें किसी भी मौसमी फ्लू जैसी ही होती हैं। जैसे कि सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द, गला दर्द, जुकाम, सूखी खांसी। थकावट। यही वजह है कि शुरूआत में कोरोना वायरस का शिकार हुए इंसान को मालूम ही नहीं चलता कि उसे ये बीमारी लग गई है।

कैसे करें बचाव? 

कोरोना नाम की इस मुसीबत से पीछा छुड़ाने की फिलहाल कोई दवाई डॉक्टरों के पास नहीं है। इसलिए इससे बचाव ही फिलहाल इस बीमारी का इकलौता इलाज है। सबसे पहला काम जो आपको करना है वो ये कि भीड़-भाड़ में जाने से बचने की पूरी कोशिश करें। अगर बेहद ज़रूरी है तो ही भीड़-भाड़ वाले इलाकों में जाएं।

हाथ को साबुन से बार-बार धोएं। और कम से कम बीस सेकेंड्स तक हाथों को धोएं। अगर हो सके तो उस सैनिटाइज़र का इस्तेमाल करें जिसमें 60 फीसदी तक एल्कोहल हो। खाने के पहले और बाद में हाथ ज़रूर धोएं। टॉइलेट के बाद भी हाथों को हर हाल में धोएं।

अगर आपके आस-पास कोई ऐसा इंसान है जिसे खांसी, बुखार, जुकाम या ऐसी ही कोई बीमारी हो रही है तो बेहतर रहेगा कि उससे फिलहाल खुद को दूर रखें। कम से कम 6 फीट दूर। हो सकता है कि इस दौरान आपके कई यार-दोस्त-रिश्तेदार आपसे नाराज़ हो जाएं, लेकिन आपको फिलहाल खुद को अधिक से अधिक समय तक अकेले रहना चाहिए। वो भी किसी सुरक्षित जगह पर।

नौकरी पर या काम पर जाने की मजबूरी है तो बढ़िया क्वालिटी का मास्क अपने पहनकर रखें। ये वाला मास्क बिल्कुल भी नहीं चलेगा। घर पर भी मास्क को पहनकर रखें। खांसते और छींकते समय मुंह और नाक को रुमाल से ढक लें। घर में रोज़ इस्तेमाल होने वाले सामानों को रोज़ अच्छी तरह से साफ करें।

बिजली के स्विच, दरवाजों के हत्थों, कुर्सी-मेज को भी रोज़ साफ करें। खाने को बढ़िया तरह से पकाकर खाएं। नॉनवेज खाने के शौकीन हैं तो फिलहाल इसे कम से कम ही खाएं। मोबाइल की साफ-सफाई का बेहद ध्यान रखें। अपने घर के बाथरूम-टॉयलेट को भी साफ-सुथरा रखें। साफ पानी ही पिएं।

अगर बुखार हो जाए तो डाक्टर के पास ज़रूर जाएं और बिना मास्क पहने ना जाएं। फोन पर दोस्तों-रिश्तेदारों के टच में रहें। और हर किसी को कोरोना वायरस से बचाव की जानकारी को शेयर करते रहें।

और अब अंत में

कोरोना वायरस ने दुनियाभर में इमरजेंसी के हालात पैदा कर दिए हैं। फिलहाल इसका कोई पक्का इलाज नहीं है। तो बेहतर है कि आप खुद को इस वायरस से बचाने की हर मुमकिन कोशिश करें। इसलिए हमारी इस रिपोर्ट में बताए गए बचाव उपायों पर ध्यान दीजिए और इसे अपने दोस्तों और रिश्तेदारों के साथ भी शेयर कीजिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *