ग्यारहवां भाग: अमेरिकी लड़की कैथी को कैसी लगी भारत में महिलाओं की स्थिति? यहां जानिए

American Girl Kathy in India - Photo Courtesy: Pixabay

हैलो फ्रेंड्स, मैं कैथी। पिछले आर्टिकल में मैंने आपको बताया था कि अमेरिकन और इंडियंस एक-दूसरे से क्या-क्या सीख सकते हैं। और आज के आर्टिकल में मैं बात करूंगी भारत में औरतों की स्थिति के बारे में। लेकिन एक चीज़ जो मैं पिछले वीडियो में बताना भूल गई थी वो इसमें बता रही हूं। इंडियंस हम अमेरिकन्स से एक चीज़ और सीख सकते हैं। और वो ये कि बाथरूम को कैसे साफ रखा जाता है। 

मैं इंडिया में किसी बढ़िया रेस्टोरेंट के बाथरूम में भी गई तो मुझे ऐसी फीलिंग्स आती थी जैसे मेरे यहां आने से कुछ देर पहले ही किसी एलियन ने यहां बच्चे को जन्म दिया है। और केवल रेस्टोरेंट्स ही नहीं, लोगों के घरों के बाथरूम्स भी कुछ ऐसे ही मुझे दिखे।

चलिए अब हम इस वीडियो के टॉपिक पर बात करते हैं।

इंडिया में सीखा काफी कुछ

इंडिया में रहने के दौरान मैंने काफी कुछ सीखा। अपने बारे में भी मैंने काफी कुछ जाना। मैंने महसूस किया कि जब भी कोई मुझे किसी काम को करने से मना करता है या फिर कहता है कि मैं नहीं कर पाऊंगी तो मेरा दिल वही काम करने सबसे ज़्यादा करता है। और खासतौर से तब जब कोई कहता है कि ये तो मर्दों का काम है, औरत कैसे करेगी। यहां इंडिया में ढेरों ऐसी चीज़ें हैं जो औरतों को नहीं करने दी जाती हैं। लेकिन मैं तो मैं हूं। मैं अपने ही मन की करती हूं। तो सबसे पहले मैं आपको उन नियमों के बारे में बताती हूं जो यहां इंडिया में औरतों को फॉलो करने पड़ते हैं और मैं भी उन्हें फॉलो करती हूं। 

American Girl Kathy in India – Photo Courtesy: Pixabay

मैं फॉलो करती हूं ये भारतीय नियम

सबसे पहला नियम, अपनी स्किन को ज़्यादा एक्सपॉज मत करो। इसलिए मैं यहां कभी भी शॉर्ट्स नहीं पहनती। ना ही स्कर्ट्स पहनती हूं। और मुझे ये करने में इसलिए कोई दिक्कत नहीं है क्योंकि मैं अमेरिका में भी ऐसे ही रहती हूं। दूसरा नियम जो मैं यहां फॉलो करती हूं वो है अंजान मर्दों से बात ना करना। हालांकि जब मैं इंडिया आई थी तो मैं हर किसी से बात किया करती थी।

American Girl Kathy in India – Photo Courtesy: Pixabay

लोग यहां व्हाइट लोगों को लेकर काफी करियस और फ्रेंडली होते हैं। लेकिन अब मैं हर किसी से बात नहीं करती। अगर कोई आदमी अब मेरे से बात करने की कोशिश करता है तो मैं मुस्कुराकर आगे बढ़ जाती हूं। यहां के अधिकतर मर्द वैसे तो खतरा नहीं होते लेकिन काफी अनॉइंग होते हैं। और यहां के मर्दों की जो बात मुझे सबसे ज़्यादा नापसंद है वो ये कि ये लोग इंटरनेशनल पॉलिटिक्स में ज़रा भी दिलचस्पी नहीं लेते हैं।

American Girl Kathy in India – Photo Courtesy: Pixabay

नियम जो मैं नहीं मानती

अब मैं बात करूंगी उन नियमों की जो इंडिया में औरतों को फॉलो करने पड़ते हैं लेकिन मैं बिल्कुल भी इन्हें नहीं मानती। सबसे पहला, शराब नहीं पीना। इंडिया आकर जब मैं माउंट आबू के पहले टूर पर गई थी तो मुझे मेरे कलीग्स ने कहा था कि तुम औरत हो इसलिए बीयर स्टोर पर बीयर खरीदने मत जाओ। मेरा मूड ये सुनकर बेहद खराब हो गया था। लेकिन अब मैं बिल्कुल भी नहीं सोचती कि मैं इसलिए शराब नहीं खरीद सकती क्योंकि मैं एक औरत हूं। मैं तो चौड़ी होकर शराब की दुकान पर जाती हूं जिसे यहां लोग ठेका कहते हैं। 

American Girl Kathy in India – Photo Courtesy: Pixabay

मुझे कोई टेंशन नहीं

यहां गुजरात में शराब की बिक्री पर बैन है। लेकिन क्योंकि मैं फॉरनर हूं तो मुझे महीने में कुछ शराब खरीदने का लाइसेंस आसानी से मिल गया था। शुरूआत में ये मुझे काफी अजीब लगता था। लेकिन अब तो मैं अपने कलीग्स को ये बोलकर चिढ़ाती हूं कि मैं तुम्हारे देश में शराब खरीद सकती हूं लेकिन तुम नहीं खरीद सकते। और जब मैं बीयर के कैन्स फेंकती हूं तो मुझे कई-कई प्लास्टिक बैग्स में उन्हें छुपाकर नहीं फेंकना पड़ता।

American Girl Kathy in India – Photo Courtesy: Pixabay

औरतें भी बोरिंग हैं

एक दूसरा नियम जो यहां की औरतों को फॉलो करना पड़ता है वो ये कि औरतें केवल औरतों के साथ ही सोशलाइज़ हो सकती हैं। वाट ए क्रैप। ऐसा करने से ऑफिस में साथ काम करने वाले मेल कलीग्स के साथ अच्छी बॉन्डिंग नहीं बन पाती। और मुझे इससे ये फीलिंग भी आती है कि मर्द और औरतें बराबर नहीं हैं।

American Girl Kathy in India – Photo Courtesy: Pixabay

यहां इंडिया में टैक्निकल फील्ड में केवल 10 प्रतिशत ही औरतें काम करती हैं। और ऑफिस के लंच टेबल पर यहां औरतें कितनी बोरिंग बातें करती हैं। माई गॉड। मैं सोच भी नहीं सकती। इन औरतों के पास हसबैंड, ससुराल वाले, फिल्म्स और फूड के अलावा बात करने के लिए और कोई टॉपिक ही नहीं होता। मैं ऐसा कोई भी नियम नहीं मानती।

American Girl Kathy in India – Photo Courtesy: Pixabay

मैं कमज़ोर औरत नहीं हूं

तीसरा नियम जो यहां औरतों पर लागू किया जाता है वो ये कि औरतों को भारी वज़न उठाने से मना किया जाता है। ये लोग कहते हैं कि इससे औरतों की सेहत को खतरा पैदा हो जाता है। यहां की औरतों को भी ये पसंद आता है। लेकिन मुझे बिल्कुल भी नहीं। मैं तो अपनी 20 लीटर की पानी की बोतल को भी खुद ही उठाकर सेकेंड फ्लॉर पर अपने फ्लैट में लेकर जाती हूं। और कभी-कभी तो मैं इंडियन मर्दों की तरह शेयरिंक ऑटो पर पीछे लटकर जाती हूं। मुझे तो ये सब करने में बड़ा ही मज़ा आता है। 

American Girl Kathy in India – Photo Courtesy: Pixabay

मैं तो बाइक चलाती ही हूं

चौथा नियम जो इंडियन औरतों को मानना पड़ता है वो ये कि शादी के बाद उन्हें अपने मां-बाप के घर को छोड़कर अपने पति के घर जाना ही पड़ता है। क्या बकवास है। हसबैंड-वाइफ किसी अलग जगह क्यों नहीं रह सकते। हमारे यहां ऐसा बिल्कुल भी नहीं होता और मैं भी इसको कभी नहीं मानती।पांचवा नियम जो औरतों को यहां मानना पड़ता है वो ये कि उन्हें मोटरसाइकिल नहीं चलानी चाहिए। हां, ये स्कूटी चला सकती हैं।

American Girl Kathy in India – Photo Courtesy: Pixabay

लेकिन मैंने यहां मोटरसाइकिल चलाना सीखा और एक सैकेंड हैंड मोटरसाइकिल भी खरीदी। हालांकि यहां इंडिया के क्रेजी ट्रैफिक में बाइक या स्कूटर चलाना कोई आसान काम नहीं है। यहां ट्रैफिक रूल्स को शायद ही लोग कभी सीरीयसली लेते हैं। अभी मैं भी इंडिया की रोड्स पर बाइक चलाने का तजुर्बा धीरे-धीरे ले रही हूं।

American Girl Kathy in India – Photo Courtesy: Pixabay

और आखिर में

तो फ्रेंड्स, ये थी कुछ वो बातें जो एक औरत होने के नाते मुझे यहां महसूस हुई। आप अगर मेरे इस आर्टिकल पर और मेरी बातों पर अपना कोई ओपिनियन देना चाहते हैं तो इस आर्टिकल के कमेंट सेक्शन में जाकर दे सकते हैं। और मेरी कहानी शुरू से देखने-पढ़ने के लिए आप इस वेबसाइट को भी चैक कर सकते हैं। फिल मिलूंगी आपसे इंडिया की अपनी नई कहानी के साथ अगले आर्टिकल में। बाय बाय।

American Girl Kathy in India – Photo Courtesy: Pixabay

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *