Saeed Jaffrey Biography: वो भारतीय फिल्मस्टार जिसे दुनिया ने सराहा

Actor-Saeedi-Jaffrey-Biography

Photo: Social Media

Saeed Jaffrey. सिनेमा हो या फिर टेलिविजन। बॉलीवुड हो या फिर हॉलीवुड। एक्टिंग के लगभग हर मीडियम में इन्होंने अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाया। अभी तक कोई दूसरा ऐसा भारतीय कलाकार नहीं हुआ है जो हॉलीवुड फिल्मों में इनके जैसा रुतबा हासिल कर सका हो। 70 साल लंबे अपने फिल्मी करियर में सईद जाफरी ने एक से बढ़कर एक फिल्मों में काम किया और अपनी एक्टिंग का लोहा मनवाया।

आज Modern Kabootar पर कहानी कही जाएगी Saeed Jaffrey की। भारत से कैसे Saeed Jaffrey हॉलीवुड पहुंचे और कैसे ये फिल्मों में इतना बड़ा नाम बने, ये पूरा किस्सा आज हम और आप जानेंगे।

Saeed Jaffrey की शुरूआती ज़िंदगी

सईद जाफरी का जन्म हुआ था 8 जनवरी 1929 को पंजाब के मलेरकोटला के एक पंजाबी मुसलमान परिवार में। उस ज़माने में इनके नाना खान बहादुर फज़ले इमाम मलेर कोटला के दीवान थे। ये एक बहुत बड़ा ओहदा था। इनके पिता का नाम था डॉक्टर हामिद हुसैन जाफरी और वो ब्रिटिश इंडिया के हेल्द सर्विस डिपार्टमेंट में सिविल सर्वेंट थे।

Actor-Saeedi-Jaffrey-Biography
Photo: Social Media

अलग-अलग शहरों में गुज़रा Saeed Jaffrey का बचपन

अक्सर इनके पिता का तबादला भारत के अलग-अलग शहरों में होता रहता था। इनका बचपन मुज़फ्फरनगर, लखनऊ, मिर्ज़ापुर, कानपुर, अलीगढ़, मसूरी, गोरखपुर और झांसी जैसे शहरों में गुज़रा। साल 1938 में इन्होंने अलीगढ़ के मिंटो सर्किल स्कूल में दाखिला लिया। यहीं पर सईद जाफरी को मिमिक्री का शौक लगा और वो तरह-तरह की आवाज़ें और अपने टीचरों की नकल उतारने लगे।

Actor-Saeedi-Jaffrey-Biography
Photo: Social Media

मिमिक्री करते-करते ही इन्हें ये भी अहसास हुआ कि थोड़ी सी मेहनत और की जाए तो ये एक बढ़िया मिमिक्री आर्टिस्ट बन सकते हैं। ये अपने स्कूल में कई हॉलीवुड सितारों की भी नकल उतारते थे। स्कूल में ही इन्होंने पहली दफा एक नाटक में काम किया और उस नाटक में इन्होंने औरंगजेब के सीधे-सादे भाई दारा शिकोह का किरदार निभाया।

इन सब के फैन थे Saeed Jaffrey

अलीगढ़ ही वो शहर भी था जहां से सईद जाफरी ने फिल्में देखना शुरू किया था। अलीगढ़ के सिनेमाघरों में इन्होंने मोतीलाल, पृथ्वीराज कपूर, नूर मोहम्मद चार्ली, फियरलैस नादिया और दुर्गा खोटे जैसे भारतीय सिनेमा के शुरुआती सुपरस्टार्स की फिल्में देखी और ये उनके फैन हो गए। अलीगढ़ में इन्होंने पढ़ाई के अलावा उर्दू भाषा पर भी अच्छी पकड़ हासिल की।

Actor-Saeedi-Jaffrey-Biography
Photo: Social Media

मसूरी से इलाहबाद यूनिवर्सिटी तक Saeed Jaffrey का सफर

अलीगढ़ के बाद 1941 में इन्होंने मसूरी के विनबर्ग एलन स्कूल में दाखिला लिया और वहां पर इन्होेंने अंग्रेजी में महारत हासिल की। खासतौर पर ब्रिटिश एक्सेंट पर। यहां भी इन्होंने नाटकों में हिस्सा लेना जारी रखा और स्कूल के एनुअल डे पर होने वाले नाटकों में ये कोई ना कोई रोल निभाया करते थे।

Actor-Saeedi-Jaffrey-Biography
Photo: Social Media

यहां पढ़ाई पूरी करने के बाद इन्होंने मसूरी के ही सेंट जॉर्ज कॉलेज में दाखिला ले लिया। इसके बाद 1945 में सईद जाफरी ने इलाहबाद यूनिवर्सिटी में बीए इन इंग्लिश लिटरेचर में दाखिला लिया। फिर इलाहबाद यूनिवर्सिटी से ही इन्होंने मेडिवियल इंडियन लिटरेचर में एमए किया।

ऑल इंडिया रेडियो से जुड़े Saeed Jaffrey

एमए कंप्लीट करने के बाद सईद दिल्ली आ गए और 250 रुपए महीना तनख्वाह पर इन्होंने ऑल इंडिया रेडियो जॉइन कर लिया।

इस समय तक भारत अंग्रेजों की गुलामी से आज़ाद हो चुका था।

भारत का बंटवारा हो चुका था और सईद जाफरी के भी कई रिश्तेदार भारत छोड़कर पाकिस्तान जा चुके थे।

ऑल इंडिया रेडियो में ही सईद जाफरी की मुलाकात मधुर बहादुर से हुई थी,

जो कि आगे चलकर उनकी पत्नी बनी थी। पहली पत्नी।

Actor-Saeedi-Jaffrey-Biography
Photo: Social Media

दिल्ली में बनाई खुद की ड्रामा कंपनी

ऑल इंडिया रेडियो में काम करने के साथ ही सईद जाफरी ने,

दिल्ली में अपना खुद का एक थिएटर ग्रुप भी स्थापित किया।

यूनिटी थिएटर कंपनी नाम का इनका थिएटर ग्रुप अंग्रेजी नाटक किया करता था।

Actor-Saeedi-Jaffrey-Biography
Photo: Social Media

ऑस्कर विल्डी, डिलन थॉमस और विलियम शेक्सपियर जैसे,

महान अंग्रेजी लेखकों के लिखे नाटकों का मंचन इनका थिएटर ग्रुप किया करता था।

इस नाटक कंपनी में मधुर बहादुर भी इनके साथ थी,

और यहीं पर इन दोनों के बीच प्यार का अंकुर फूटना भी शुरू हुआ था।

अमेरिका से किया ड्रामा में एमए

इसी बीच 1956 में मधुर बहादुर को लंदन की रॉयल एकेडमी ऑफ ड्रैमेटिक आर्ट में पढ़ने का मौका मिला और वो लंदन चली गई। वहीं सईद जाफरी को भी फुलब्राइट स्कॉलरशिप मिल गई और ये अमेरिका के न्यूयॉर्क शहर में ड्रामा स्टडी करने चले गए। अमेरिका में रहते हुए ही इन्होंने प्रोफेशनल एक्टिंग भी शुरू कर दी। 1958 में रिलीज़ हुई अंग्रेजी फिल्म स्टॉक्ड में ये पहली दफा नज़र आए।

Actor-Saeedi-Jaffrey-Biography
Photo: Social Media

हालांकि इनका पहला बड़ा फिल्मी रोल था 1975 में रिलीज़ हुई फिल्म द मैन हू वुड बी किंग में। इस फिल्म में ये बिली फिश नाम के गुरखा सिपाही बने थे। इस फिल्म में माइकल केन और सीन कोनरी जैसे बड़े सितारे मौजूद थे। अमेरिका में रहते हुए ही सईद जाफरी ने कैथोलिक यूनिवर्सिटी ऑफ अमेरिका से ड्रामा में एमए की डिग्री भी हासिल की।

अमेरिका में Saeed Jaffrey ने की मधुर बहादुर से शादी

दूसरी तरफ लंदन में सईद जाफरी से दूरी की वजह से तड़प रही मधुर बहादुर भी अमेरिका आ गई और अमेरिका में इन दोनों ने शादी कर ली। मधुर और इनकी तीन बेटियां हुई। इनकी बेटियों के नाम हैं मीरा, ज़िया और शकीना। शकीना ने भी इनकी ही तरह एक्टिंग में करियर बनाया।

Actor-Saeedi-Jaffrey-Biography
Photo: Social Media

मधुर और सईद जाफरी ने अमेरिका में शेक्सपीयरन नाटकों का मंचन किया और इस तरह सईद जाफरी पहले भारतीय अभिनेता बने जिन्होंने अमेरिका की धरती पर शेक्सपीयरन नाटकों का मंचन किया। ये सईद जाफरी ही थे जो इस्माइल मर्चेंट और जेम्स आइवरी का साथ लाए और मर्चेंट-आइवरी फिल्म कंपनी की स्थापना कराई। 70 और 80 के दशक में मर्चेंट आइवरी फिल्मों का ये अभिन्न हिस्सा थे।

इस फिल्म से की हिंदी सिनेमा में शुरूआत

हिंदी सिनेमा की बात करें तो पहली दफा ये सत्यजीत रे की फिल्म शतरंज के खिलाड़ी में नज़र आए थे।

उसके बाद विनोद पांडे की एक बार फिर और संई परांजपे की चश्मे बद्दूर में इन्होंने काम किया।

1982 में रिलीज़ हुई रिचर्ड ओटनबोरो की फिल्म गांधी में इन्होंने सरदार पटेल का किरदार निभाया था।

और केवल फिल्मों में ही नहीं, इन्होंने कुछ ब्रिटिश टीवी शोज़ में भी काम किया था,

जैसे कि द ज्वैल इन द क्राउन, तंदूरी नाइट्स और द लिटिल नेपोलियन्स।

Actor-Saeedi-Jaffrey-Biography
Photo: Social Media

ऐसी थी Saeed Jaffrey की निज़ी ज़िंदगी

सईद जाफरी की निज़ी ज़िंदगी की तरफ रुख करें तो,

ये तो हमने आपको बता ही दिया कि,

इनकी पत्नी का नाम मधुर बहादुर था और उनसे इनकी तीन बेटियां थी।

लेकिन मधुर के साथ इनकी शादी एक वक्त के बाद टूट गई और इन्होंने मधुर से तलाक ले लिया।

उसके बाद इन्होंने जेनिफर सोरेल नाम की एक ब्रिटिश महिला से शादी कर ली।

इनके दो भाई थे जिनके नाम थे वाहिद और हमीद। वहीं शगुफ्ता नाम की इनकी एक बहन भी थी।

Actor-Saeedi-Jaffrey-Biography
Photo: Social Media

सईद जाफरी की प्रमुख फिल्में

इनकी प्रमुख हिंदी फिल्मों की बात करें तो ये नज़र आए आगमन, मासूम, मंडी, किसी से ना कहना, मशाल, राम तेरी गंगा मैली, सागर, खुदगर्ज़, औलाद, हीरो हीरालाल, चालबाज़, राम लखन, दिल, घर हो तो ऐसा, अजूबा, हिना, एक ही रास्ता, आशिक आवारा, दिलवाले, सलामी, ये दिल्लगी, जय विक्रांता, राजा की आएगी बारात, दीवाना मस्ताना, आंटी नंबर वन और अलबेला जैसी फिल्मों में।

Actor-Saeedi-Jaffrey-Biography
Photo: Social Media

15 नवंबर 2015 को 86 साल की उम्र में ब्रेन हैमरेज के चलते सईद मिर्ज़ा का निधन हो गया।

इनके निधन के बाद भारत सरकार ने इन्हें पद्मश्री पुरस्कार से नवाज़ा था।

वहीं ये पहले ऐसे भारतीय थे जिन्हें ब्रिटेन ने ओबीई सम्मान दिया था।

सईद जाफरी को दिल से सैल्यूट

देश-विदेश में अपने टैलेंट का डंका बजाने वाले सईद मिर्ज़ा की ज़िंदगी की कहानी को,

शब्दों की सीमा में बांधना काफी मुश्किल काम है।

सईद मिर्जा़ ने ज़िंदगी के कई रंग रूप देखे थे।

कई ऐसे काम किए थे जो उनसे पहले किसी भारतीय ने नहीं किए थे।

मॉडर्न कबूतर इस महान कलाकार को सैल्यूट करता है। जय हिंद।

Actor-Saeedi-Jaffrey-Biography
Photo: Social Media

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *