Sadhna Sargam ही नहीं, 90s के इन सभी मशहूर गायकों को भी भुला चुके हैं हम लोग

Kumar Sanu, Sadhna Sargam, Alka Yagnik - Photo: Social Media

90 के दशक में एक गायिका हुआ करती थी। नाम है Sadhna Sargam. उस दौर में अपनी जवानी बिताने वाले लोगों ने इनके गाने खूब सुने होंगे। इनका पहला सोलो गाना था ‘दूर नहीं रहना’ जो कि फिल्म ‘रुस्तम’ फिल्म का गीत था। हालांकि इससे पहले Sadhna Sargam सुभाष घई की फिल्म विधाता में ‘सात सहेलियां’ चुकी थी। भले ही अब ये फिल्मी दुनिया से काफी दूर हो चुकी हों, लेकिन आज भी इनके फैंस इन्हें खूब याद करते हैं।

आज यानि 7 मार्च को Sadhna Sargam का जन्मदिन है। तो हमने सोचा कि क्यों ना आपको आज हम 90 के दशक के कुछ और गायकों की भी याद दिला दें। ये वो गायक हैं जो उस दौर में लोगों के दिलों पर राज किया करते थे। आपने भी इनके गाने ज़रूर सुने होंगे।

उदित नारायण

90 के दशक की फिल्मों की खासियत उनकी कहानी और उनके हीरो ही नहीं, बल्कि उनका मधुर गीत-संगीत भी हुआ करता था। उदित नारायण उस दौर के बड़े गायकों में से एक थे। उदित नारायण ने उस दौर की कई बड़ी और सुपरहिट फिल्मों में अपनी आवाज़ दी थी और लगभग हर बड़े स्टार के लिए गीत गाए थे।

Udit Narayan- Photo: social media

कुमार सानू

बात अगर 90 के दशक के रोमांटिक गानों की हो तो मतलब बात कुमार सानू की हो रही है। कुमार सानू ने उस दौर में हर एज ग्रुप के लोगों को अपना दीवाना बनाया था। कुमार सानू के गाए हुए गीत आज भी लोग बड़े ही शौक से सुनते हैं और उनके गीत सुनकर आज भी लोग रोमांस करना पसंद करते हैं।

kumar Sanu- Photo: social media

अल्का याग्निक

ये बात कहने में कोई गुरेज नहीं होना चाहिए कि आशा भोंसले और लता मंगेशकर के बाद बॉलीवुड में अगर कोई सबसे सफल फीमेल प्लेबैक सिंगर रही हैं तो वो अल्का याग्निक ही रही हैं। 30 सालों तक अपनी मधुर आवाज़ से हर किसी के दिल पर राज करने वाली अल्का याग्निक के बिना उस दौर में लोग गीतों की कल्पना भी नहीं कर पाते थे।

Alka Yagnik- Photo: instagram

कविता कृष्णमूर्ति

90 के दशक की एक और बेहद मशहूर और लोकप्रिय फीमेल सिंगर थी कविता कृष्णमूर्ति। इनके गाए गीत भी लोग बेहद पसंद किया करते थे। इन्हें बॉलीवुड में पहचान मिलनी शुरू हुई थी फिल्म ‘प्यार झुकता नहीं’ से। ये फिल्म 1985 में रिलीज़ हुई थी। इसके बाद तो कविता कृष्णमूर्ति ने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा और इन्हें 4 बार बेस्ट सिंगर का फिल्मफेयर अवार्ड मिला।

kavita krishnamurthy – Photo: Social Media

अनुराधा पौडवाल

कहा जाता है कि टी-सीरीज़ के मालिक गुलशन कुमार ने अनुराधा पौडवाल की खोज की थी। इनकी खनकती आवाज़ के दीवानों की भी उस दौर में कोई कमी नहीं थी। लोग तो ये भी दावा करते थे कि गुलशन कुमार अनुराधा पौडवाल को दूसरी लता मंगेशकर बनाना चाहते हैं। इनके करियर की शुरूआत हुई थी अमिताभ और जया बच्चन की फिल्म ‘अभिमान’ से। ये फिल्म 1973 में रिलीज़ हुई थी। हालांकि इन्हें पहचान मिली 1976 में फिल्म ‘कालीचरन’ से।

Anuradha Paudwal – Photo: Social Media

अभिजीत भट्टाचार्य

90 के दशक का एक और बड़े गायक थे गायक अभिजीत भट्टाचार्य। मशहूर संगीतकार आरडी बर्मन ने इन्हें पहली दफा ब्रेक दिया था। एक दौर वो था जब शाहरुख खान पर फिल्माए गए हर गाने को अभिजीत भट्टाचार्य ही अपनी आवाज़ दिया करते थे। बता दें कि अभिजीत भट्टाचार्य अब पूरी तरह से बॉलीवुड से दूर हो चुके हैं।

Abhijeet Bhattacharya – Photo: Social Media

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *